Vikram betal kahaniya

कहानी संख्या 16


चन्द्रशेखर नगर में रत्नदत्त नाम का एक सेठ रहता था। उसके एक लड़की थी। उसका नाम था उन्मादिनी। जब वह बड़ी हुई तो रत्नदत्त ने राजा के पास जाकर कहा कि आप चाहें तो उससे ब्याह कर लीजिए। राजा ने तीन दासियों को लड़की को देख आने को कहा। उन्होंने उन्मादिनी को देखा तो उसके रुप पर मुग्ध हो गयीं, लेकिन उन्होंने यह सोचकर कि राजा उसके वश में हो जायेगा, आकर कह दिया कि वह तो कुलक्षिणी है राजा ने सेठ से इन्कार कर दिया।

इसके बाद सेठ ने राजा के सेनापति बलभद्र से उसका विवाह कर दिया। वे दोनों अच्छी तरह से रहने लगे।

एक दिन राजा की सवारी उस रास्ते से निकली। उस समय उन्मादिनी अपने कोठे पर खड़ी थी। राजा की उस पर निगाह पड़ी तो वह उस पर मोहित हो गया। उसने पता लगाया। मालूम हुआ कि वह सेठ की लड़की है। राजा ने सोचा कि हो-न-हो, जिन दासियों को मैंने देखने भेजा था, उन्होंने छल किया है। राजा ने उन्हें बुलाया तो उन्होंने आकर सारी बात सच-सच कह दी। इतने में सेनापति वहाँ आ गया। उसे राजा की बैचेनी मालूम हुई। उसने कहा, “स्वामी उन्मादिनी को आप ले लीजिए।” राजा ने गुस्सा होकर कहा, “क्या मैं अधर्मी हूँ, जो पराई स्त्री को ले लूँ?”

राजा को इतनी व्याकुलता हुई कि वह कुछ दिन में मर गया। सेनापति ने अपने गुरु को सब हाल सुनाकर पूछा कि अब मैं क्या करूँ? गुरु ने कहा, “सेवक का धर्म है कि स्वामी के लिए जान दे दे।”

राजा की चिता तैयार हुई। सेनापति वहाँ गया और उसमें कूद पड़ा। जब उन्मादिनी को यह बात मालूम हुई तो वह पति के साथ जल जाना धर्म समझकर चिता के पास पहुँची और उसमें जाकर भस्म हो गयी।

इतना कहकर बेताल ने पूछा, “राजन्, बताओ, सेनापति और राजा में कौन अधिक साहसी था?”

राजा ने कहा, “राजा अधिक साहसी था; क्योंकि उसने राजधर्म पर दृढ़ रहने के लिए उन्मादिनी को उसके पति के कहने पर भी स्वीकार नहीं किया और अपने प्राणों को त्याग दिया। सेनापति कुलीन सेवक था। अपने स्वामी की भलाई में उसका प्राण देना अचरज की बात नहीं। असली काम तो राजा ने किया कि प्राण छोड़कर भी राजधर्म नहीं छोड़ा।”

राजा का यह उत्तर सुनकर बेताल फिर पेड़ पर जा लटका। राजा उसे पुन: पकड़कर लाया और तब उसने यह कहानी सुनायी।

विक्रम बेताल की संपूर्ण कहानियां

【 पाप किसको लगेगा 】कहानी संख्या 1 ◆ Stories of vikram betal

【 किसकी स्त्री 】 कहानी संख्या 2◆ stories of vikram betal

【ज्यादा पुण्य किसका】 कहानी संख्या 3 ◆ stories of  bikram betal 

【ज्यादा पापी कौन】कहानी संख्या 4 ◆ Stories of Vikram betal 

【 लड़की किसको मिलनी चाहिए ? 】  कहानी संख्या 5 ◆ Stories of vikram betal

【 स्त्री का पति कौन ? 】कहानी संख्या 6 ◆ Stories of Vikram Betal

【 राजा या सेवक किसका काम बड़ा? 】 कहानी संख्या 7 ◆ stories of Vikram Betal

【सबसे बढ़कर कौन】 कहानी संख्या 8 ● Stories of Vikram Betal

【राजकुमारी किसको मिलनी चाहिए 】 कहानी संख्या 9 ◆ Stories of Vikram Betal

【सबसे बड़ा त्याग किसका ?】कहानी संख्या 10 ◆ stories of vikram betal

【वह मरा क्यों ?】कहानी संख्या 11 ◆ विक्रम बेताल की कहानियां

【अपराधी कौन 】कहानी संख्या 12 ◆ stories of Vikram betal

【चोर क्यों रोया 】कहानी संख्या 13 ◆ stories of Vikram betal

[किसकी पत्नी]  ◆ कहानी संख्या 14 ● Vikram Betal की कहानियां

सबसे बड़ा काम किसने किया ◆  कहानी संख्या 15 ◆ Vikram betal की कहानियां

कौन अधिक साहसी  ◆ कहानी संख्या 16 ◆ Vikram betal की कहानियां

विद्या क्यों नष्ट हो गई ? ◆ कहानी संख्या 17◆ Vikram Betal की कहानियां

【पिंड किसको देना चाहिए】  कहानी संख्या 18 ◆ Vikram betal की कहानियां

【वह बालक क्यों हंसा 】कहानी संख्या 19 ◆ Vikram Betal की कहानियां

【विराग में अंधा कौन 】कहानी संख्या 20 ◆ Vikram betal in hindi

【शेर बनाने का अपराध किसने किया】 कहानी संख्या 21 ◆ Vikram betal की कहानियां

【योगी पहले रोया क्यों और फिर हंसा क्यों 】कहानी संख्या 22 ◆ Vikram Betal की कहानियां

【रिश्ता क्या हुआ 】कहानी संख्या 23 ◆ vikram betal की कहानियां

अंतिम कहानी Vikram Betal story

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...