Krishna bhajan ~ sapne me raat me aaya murli wala ri bhajan




सपने में रात में आया मुरली वाला री

मेरे दिल में बस गयो श्याम जपू मैं माला री ||

वो बोला सुन मेरी राधा मई तेरे बिना हू आधा
मेरी बंसी तुझे पुकारे आ दौड़ी यमुना किनारे ||
मुझे ग्वाल बाल में प्यार
ग्वाल बाल में प्यारा कृष्ण गोपाला री
मेरे दिल में बस गयो श्याम जपू मैं मला री

वो झूले कदम्ब की डारी मैं संग में झूलन वारी
रंग रसिया श्याम मुरारी करे मीठी बतियां प्यारी ||
जादू सा मो पे करता ||
वो नंदलाला री
मेरे दिल में बस गयो श्याम जपू मैं माला री….

मेरा हाथ पकड़ के डोले नैनन की भाषा बोले
मैं हो गयी श्याम दीवानी मोहे दे गयो खास निशानी ||
मेरा खो गयो खेलें
खो गयो खेलें में कान का बाला री
मेरे दिल में बस गयो श्याम जपू मैं माला री ||

वो नटखट नन्दकिशोरा छलिया गोकुल का छोरा
सपने में आन सातवे फिर चैन मुझे न आवे
मेरे मन का कमल खिलावे
मन का कमल खिलावे श्याम गोपाला री
मेरे दिल में बस गयो श्याम जपू मैं माला री ||

सपने में रात में आया मुरली वाला री
मेरे दिल बस गयो श्याम जपू मै माला री ||

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...