Sad love story hindi

Sad love story hindi
Sad love story image


उन दिनों को याद करते ही यादें ताजा हो जाती हैं। ऐसा लगता है मानो वो दिन साक्षात मेरी आंखों के सामने घूम रहे हैं ।मै एक लड़की से बहुत प्यार करता था और वो भी मुझसे बहुत प्यार करती थी। मै उस समय 12th में था और प्रियंका B.Sc 1st Year में थी। मैंने प्रियंका को जिस दिन से देखा थामुझे तो उसी दिन से उससे प्यार हो गया था। प्रियंका स्कूटी चलाते हुए बहुत ही सुंदर लगती थी। और साथ में उसके सुनहरे बालों को देखकर लगता था कि जैसे कोई परी आसमान से नीचे आ गयी हो। मैंने प्रियंका को पहली बार तब देखा था जब मैं स्कूल से घर की तरफ आ रहा था और वो स्कूटी से कहीं जा रही थी। मैंने सबसे पहले तो उसका नाम और उसका घर पता किया। तब मुझे पता चला कि उसका नाम प्रियंका है और उसका घर भी ज्यादा दूर नही था। फिर मै और एक मेरा दोस्त हम दोनों रोजाना शाम को उसके घर की तरफ जाते थे। पता नही क्यों जब तक मैं उसे देख नही लेता था तब तक मेरे दिल को चैन नही आता था। ऐसे ही दिन गुजर रहे थे।

ऐसे ही करते-करते पूरा एक महीना गुजर गया और अब तक मैंने प्रियंका को कुछ भी नही बोला। दरअसल मैंने कभी किसी लड़की से बात नही की थी इसलिए मुझे लड़कियो से बात करने में डर सा लगता था। फिर एक दिन मैंने थोड़ी हिम्मत करके प्रियंका की स्कूटी के पीछे-पीछे गया और जब उसे लगा कि मै उसका पीछा कर रहा हूँ तो उसने अपनी स्कूटी रोककर मुझे बोला- तुम कौन हो और मेरा पीछा क्यों कर रहे हो। मैंने कुछ भी जवाब नही दिया क्योंकि मै बहुत डर गया था। उसके बाद वो चली गयी और मै भी अपने घर आ गया। तभी मैंने मेरे दोस्त को बुलाया और उसको सारी बातें बताई। मेरी बातें सुनकर वो हँसने लगा और कहा कि तू टेंशन मत ले उस लड़की को इंप्रेस करवाने में मैं तेरी मदद करूंगा। मैंने मेरे दोस्त से कहा कि जल्दी से कर जो भी करना है।

उसके अगले दिन मेरे दोस्त ने मुझे एक टीशर्ट लाकर दी। जिसके पीछे की तरफ लिखा था- I Love You और फिर मैंने वो टी शर्ट पहनी और हम दोनों फिर से निकल पड़े प्रियंका की स्कूटी का पीछा करने। लेकिन इस बार थोड़ी देर पीछा करने के बाद हम उसके आगे आ गए ताकि वो मेरी टी शर्ट के पीछे लिखा हुआ “I Love You” पढ़ ले। जैसे ही उसने “I Love You” पढ़ा तो उसने अपनी स्कूटी हमारे Side में लगा ली और बोली कि एक बार मेरे पीछे-पीछे आओ। मै तो डर गया कि पता नही गुस्से में अब ये हमे कहा ले जायेगी। फिर हम उसके पीछे-पीछे जाने लगे। प्रियंका हमे एक सुनसान जगह पर ले गयी। प्रियंका को डर नही लग रहा था क्योंकि उसे पता था कि हम उसको कोई नुक्सान नही पहुचायेंगे। तभी उसने अपनी स्कूटी रोकी और हमे पास बुलाया और कहा कि अब बताओ क्या बात हैतुम क्यों रोज मेरे पीछे-पीछे आते हो। मै तो कुछ नही बोला और फिर तभी मेरे दोस्त ने प्रियंका से कहा कि मै जा रहा हूँतुम दोनों बात कर लो।” मैंने जल्दी से प्रियंका को “ आई लव यू” बोल दिया और पीछे की तरफ मुड़ गया। तभी प्रियंका मेरे आगे आई और बोली कि “ आई लव यू” कहने का इतना क्यूट और शानदार तरीका कहा से सीखा और वो हँसने लगी। तभी मुझे लगा कि बात बन गयी और मै तो बहुत खुश हो रहा था।

अब मेरा भी थोडा सा डर खत्म हो चूका था। प्रियंका अपने-आप ही मुझसे सबकुछ पूछ रही थी। लेकिन जब उसे पता लगा कि मै 12वीं क्लास में हूँ तो वो हँसने लगी और बोली कि तुम मुझसे एक साल छोटे हो और तुमको मुझसे प्यार हो गया। मैंने भी दुखी सा चेहरा बनाकर कह दिया कि अगर आप मेरा प्रपोजल स्वीकार नही करोगे तब भी मुझे बुरा नही लगेगा, But Please मेरी दोस्त तो बनकर रह सकते हो ना। तो प्रियंका ने कहा कि मुझे एक दिन का समय चाहिए और मुझे तुम्हारा नम्बर दो। और मैंने नम्बर दे दिया, लेकिन प्रियंका ने उसका नम्बर मुझे नही दिया।

फिर अगले दिन प्रियंका कॉलेज में थी और उसने मेरे पास कॉल की। पहले तो Unknown नम्बर देखकर मैंने कॉल उठाई, लेकिन जब बार-बार कॉल आने लगी तो मैंने Call उठा ली। तभी लड़की की आवाज़ सुनकर मुझे पता लग गया कि ये तो प्रियंका ही है। मै बहुत खुश हुआ। उसके आगे को बातें मै नीचे लिख रहा हूँ।
प्रियंकाअच्छा क्या कर रहे होमैंने तुमको डिस्टर्ब तो नही किया ना।
Me- नही नही यार। मै तो आपकी ही Call का इंतजार कर रहा था।
प्रियंकासबसे पहले तो तुम मुझे आप मत बोलो।
Me- क्यों?
प्रियंकापागल “ आई लव यू”

मैंने तभी कॉल काट दिया और अपने-आप ही आँखों से आंसू आ गए। तभी प्रियंका का मैसेज आया कि अमित हमारे कॉलेज में आ जाना और फिर हम दोनों साथ में घर चलेंगे। फिर उस दिन साथ में घर गए।

हम दोनों रात में बहुत बातें करते थे। ऐसा ही दो साल तक चलता रहा। हम दोनों को बिना बात किये तो नींद भी नही आती थी। और दो साल बाद प्रियंका B.Sc करने के बाद शिमला चली गयीक्योंकि प्रियंका का घर शिमला में था। यहाँ तो वो उसकी बुआ के घर रहती थी। जब प्रियंका यहाँ से गयी तो मुझे बहुत दुःख हुआ। उसने मुझे जाने से पहले मिलने के लिए भी बुलाया था। प्रियंका के शिमला जाने के बाद भी हम दोनों बात किया करते थे।

उसके दो महीने बाद प्रियंका के घरवाले उसकी शादी के लिए लड़का ढूंढने लगे। प्रियंका ने जैसे ही मुझे ये शादी वाली बात बताई तो मै बहुत परेशान हो गया। प्रियंका ने मुझे कहा कि तुम परेशान ना होमै एक बार घरवालो से तुम्हारे बारे में बात करती हूँ।” उसके बाद प्रियंका ने मुझे बताया कि उसके घरवाले उसकी बात नही मान रहे है। मै तो बहुत ही रो रहा था। अब मुझे लगने लगा था की प्रियंका अब चली जायेगी मुझे अकेला छोड़कर।

उसके कुछ दिनों बाद प्रियंका के घरवालो ने उसकी शादी कर दी। प्रियंका बाद में भी मुझसे बात करती थी But एक दोस्त की तरह। ऐसे तो वो लड़का अच्छा था। वो भी उसकी बहुत Care करता था। But मुझे तो बहुत दुःख होता था कि प्रियंका मेरी क्यों नही हो पायी। बस मै हमेशा भगवान से यही कहता कि जब प्रियंका को मेरा बनाना ही नही था तो हमे मिलवाया ही क्यों था।

Post a Comment

Previous Post Next Post
loading...